प्रधानाध्यापिका हत्याकांड : पांच अगस्त की रात हुई थी अनीषा की हत्या

0

मथुरा : प्रधानाध्यापिका की हत्या पांच अगस्त की रात को ही हो गई थी। पीएम रिपोर्ट में दो दिन पहले हत्या का समय दिखाया गया है। चेहरा बुरी तरह कुचला था तो पांच घाव गहरे थे। उसके डीएनए टेस्ट के लिए बाल, दांत, नाखून आदि संकलित कर लिए गए हैं। वहीं दूसरी ओर हत्यारोपी इंद्रराज की मौत ट्रेन से कटने से हुई है। पुलिस जांच कर रही है।छह अगस्त को वेस्ट प्रताप नगर में किराये के मकान में रह रहीं कृषक जूनियर हाईस्कूल की प्रधानाध्यापिका व चित्रकूट के थाना पहाड़ी क्षेत्र के गांव महाराजपुर निवासी अनीषा की हत्या की जानकारी पुलिस को हुई। पुलिस ने कमरे का ताला तुड़वाकर शव को कब्जे लेकर पोस्टमार्टम को भेजा। पोस्टमार्टम कराने के बाद पुलिस ने कमरे की भी तलाशी ली गयी। इस दौरान उसके घरेलू सामान के साथ ही अगस्त क्रांति से मथुरा से बांदा तक जाने के लिए पांच अगस्त की रात 10.12 बजे की स्लीपर की टिकट मिली है, जो चार अगस्त को तत्काल में 11 बजे करीब कराई थी। वहीं पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी उसकी मौत का समय दो दिन पहले यानी पांच अगस्त का आया है। पुलिस की मानें तो प्रधानाध्यापिका की हत्या पांच अगस्त की रात 9 बजे के आसपास कर दी गई है या विवाद होने के बाद देर रात को हुई। इसकी जांच की जा रही है। कोतवाली प्रभारी डीएन मिश्र ने बताया कि दोनों किराये के मकान में एक ही कमरे में रहते थे। किसी बात को लेकर विवाद होने की संभावना है। मृतका के परिजनों को सौंपा सामान:मृतका अनीषा के कमरे से पुलिस ने सामान निकालकर उसके परिजनों को सौंप दिया। एसएसआई अवधेश कुमार ने बताया कि मृतका के कमरे से बरामद किया गया सामान फ्रिज, एलईडी, बेड, कूलर, कुर्सी, मेज, अलमारी, रसोई का सामान, सोफा, पूजा का सामान आदि परिजनों को सौंप दिया है। उसके प्रमाणपत्र और मैरिज सर्टीफिकेट नहीं मिल सका है।

Share.

About Author

Comments are closed.