लालऊ की आवाज़ , जब तक नहीं होगा खुलासा बेटियाँ नहीं जायेंगी स्कूल

Google+ Pinterest LinkedIn Tumblr +

आगरा : ग्राम लालऊ की बेटी संजलि रोज की तरह स्कूल गई थी। लेकिन अचानक से स्कूल से लौटते वक़्त दो हत्यारे मोटर साइकिल पर आये और बिटिया संजलि पर पेट्रोल डालकर उसे आग के हवाले कर गए। बुरी तरह झुलसी संजलि ने अस्पताल में दम तोड़ दिया और इसी के साथ दम तोड़ गई प्रधानमंत्री मोदी की बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की योजना। शुक्रवार को सूबे के उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा पीड़ित परिवार से मिलने पहुँचे और परिवार को पांच लाख रुपये का मुआवज़ा दिया। लेकिन परिवार की माँग है कि संजलि के गुनहगारों को सजा मिले , मुआवज़ा १ करोड़ रूपया हो और पीड़ित परिवार के एक सदस्य को नौकरी मिले।
इसी बीच इस जघन्य वारदात को लेकर सियासी घमासान मचा है। राहुल गाँधी ने सोशल मीडिया पर टिप्पणी लिखते हुए कहा कि ये घटना दिल दहलाने वाली है। वही बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी घटना के फ़ौरन खुलासे की माँग की है। इस सबके बीच लालऊ के ग्रामीणों ने घटना के खुलासे तक अपनी बच्चियों को स्कूल न भेजने का फैसला लिया है। सभी ग्रामीणों ने एकमत होकर सरकार से ऐसी जघन्य हत्या के जल्दी खुलासे की माँग की है। वहीँ दूसरी ओर सामाजिक संघटनों ने कैंडल मार्च निकाल कर घटना का विरोध प्रकट किया।

Share.

About Author

Comments are closed.